Computer Kya Hai? – What is computer in Hindi? – Techupaay

2
51

Computer Kya Hai? – What is computer in Hindi? आज के टाइम में सब कुछ Digital हो चुका है. अब Students का Intrest Computer Technology के Field में काफी ज्यादा बढ़ता जा रहा है.

हर कोई Computer सीखना चाहता है तो Computer सिखने के लिए आपको क्या-क्या करना होगा और कैसे आप एक Computer के बारे में अच्छे से सीख सकते हैं.

तो आज के इस Article में में आपको बताऊंगा Computer ki puri jankari Hindi me. वैसे Computer सीखना कोई एक दिन का काम नहीं है.

एक Computer सिखने में आपको कितना वक़्त लगेगा यह सब निर्भर करता है कि आपको Computer Field में कितना इंटरेस्ट है और आप रोज़ाना Computer सीखने में कितना टाइम देते हैं.

आप ने ऐसे लोगो को देखा होगा की उन्हों ने Computer की पढाई तो नहीं की लेकिन उन्हें Computer Ki Basic Jankari Hindi me का काफी ज्ञान होता है।

अगर आप अभी School के Student है और आप आगे जाकर के Computer Master बनना चाहते हैं. लेकिन आपको को Computer के बारे में कुछ खास नहीं आता है.तो सबसे पहले आपको Computer Ke Basics के बारे में जानना बहुत जरूरी है.

जैसे कि Computer Kya hai (What is Computer in Hindi), Computer ka Full Form kya hai, Computer ki paribhasha, Computer ko hindi me kya kehte hai, Computer ke prakar, Computer ka avishkar kisne kiya, Computer ka upyog, Computer ka mahatwa, Computer ke advantages or disadvantages, Computer ki pidiyaan आदि।

उसके लिए आप हमारे साथ बने रहिये। इस Article में आप इन्ही सवाल के उत्तर सरल अंदाज़ में जानेंगे। तो चलिए देखते है Computer ki Basic jankari hindi me.

अनुक्रम।

Computer Kya hai? (What is Computer in Hindi)

कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की पीढ़ियां - What is computer in Hindi - Techupaay
computer kya hai

Computer Kya hai? Computer एक Electronic Device है, जो Data तथा निर्देशों को Input के रूप में ग्रहण करके उनका Analysis करता है. तथा आवश्यक Essential Results को निश्रित प्रारूप में Output साधन के ज़रिये उत्पन्न करता है. यह Data को store भी करता है. इसकी काम करने की Speed बहुत तेज होती है. तथा यह बहोत तेज़ी से Work करता है.

Computer एक ऐसी Machine है, जिसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों को सम्पादित करने में किया जाता है।

Computer एक Multipurpose Machine है. जिसका उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न समस्याओं को हल करने के लिए किया जा सकता है।

Computer ने हमारे जीने, काम करने और संवाद करने के तरीके को बदल दिया है. Computer Government, Education, साथ-साथ Entertainment क्षेत्र के कार्य में उपयोगी होते हैं.

Computer हर जगह लागू होते हैं। यही कारण है कि Computer को Multipurpose-Machine कहा जाता है. आजकल Computer द्वारा किए जाने वाले अधिकतर कार्य गणितीय क्रियाओं(Mathematical) से भिन्‍न है।

आजकल Computer को एक Machine के रुप में देखा जाता है। जो कि उसे उपलब्ध कराए गए Data, Information, Record, सूचनाएं आदि पर क्रियाएं करके प्रयोगकर्ता को इच्छित जानकारी एवं परिणाम दे सके.

अन्य प्रकार की भी, जेसे Bill Print करना, बहीखाता व्यवस्थित करना, Letter Writing, railway, Airport, Robot आदि यंत्र संचालित करना, Picture Drawing बनाना आदि।

Computer के कार्य करने की गति उसके प्रकार पर निर्भर करती है। तो हम जान लिया Computer kya hai – what is computer in hindi?

Computer ka Avishkar kisne kiya?

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया? Computer का अविष्कार British Scientist) Charles Babbage ने Computer का आविष्कार किया था। इन्हें कंप्यूटर का पिता यानि Father of Computer, Computer Inventor, कंप्यूटर का जनक इन सभी नामों से जाना जाता है।

British Scientist Charles Babbage ने 1822 में Difference Engine बनाया था। और 1842 में Analytical Engine बनाया था.

इन्ही के आधार पर आधुनिक Computer का विकास हुवा है. Charles Babbage के इस योगदान के प्रति इन्हें कंप्यूटर का पिता और कंप्यूटर का जनक (father of computer) कहते हैं।

Computer Ka Full Form Kya Hai? 

अगर Technology के नज़रिये से देखा जाये तो Computer कोई Full Form या Long Form नहीं है. लेकिन फिर भी इसका पूरा नाम बताया गया है।

Computer सब्द आपको याद होगा और आप लिख भी लेते होंगे लेकिन Computer का Full Form शायद आपको नहीं मालूम होगा तो चलिए जानते हैं।

computer ka full form kya hai

तो कंप्यूटर का फुल फॉर्म(computer full form) कुछ इस तरह से बताया गया है। इसे याद रखना थोड़ा मुश्किल है लेकिन फिर भी अगर थोड़ा ध्यान दें तो फिर दिमाग से नहीं निकलता। तो इसे जरूर याद कर लीजिये।

Computer Ka Full Form Hindi Me

computer ka full form hindi me

इस का मतलब ये हुवा की कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जो आम तौर पर तकनिकी और शैक्षणिक अनुसन्धान के लिए किया जाता है।

कंप्यूटर की परिभाषा। (Defination of Computer in Hindi)

Computer की परिभाषा। “कम्प्यूटर” नाम अंग्रेजी के “कम्प्यूट” (compute) शब्द से लिया गया है। जिसका अर्थ है “गणना”. इस प्रकार से Computer का शब्दिक अर्थ हुआ “गणना करने वाला“.

Computer को हिन्दी भाषा में संगणक कहा जाता है। अर्थात् “गणना करने वाला”. लेकिन हम आम बोल चाल की भाषा में इसे “Computer” के नाम से ही सम्बोधित करते है.

आरम्भ में Computer को एक गणना करने वाली मशीन के रुप में ही देखा जाता था. Computer का अविष्कार का प्रथम उद्देश्य भी यही था कि एक ऐसी मशीन बनायी जाय, जो जटिल-जटिल से गणनाओं को मनुष्य की अपेक्षा हजार गुना अधिक तेजी से सम्पन्न कर सके।

ख़ास तोर पर इसका 3 काम होता है जिसे आप इस फोटो को देख कर समझ सकते हैं।

 

Computer Kya Hai

ये फोटो देखकर आप समझ गए होंगे की Computer का काम क्या है। यदि आप नहीं समझ पाए हैं तो में आपको बताता हूँ।

  • इसका सबसे पहला काम होता है किसी भी Data को अपने अंदर लेना जिसे हम और आप input data कहते हैं.
  • दूसरा काम इस का ये है की ये उस Data की Processing करता है.
  • Processing हो जाने के बाद उस Data को हमारे सामने पेश करता है जिसे हम Output Data कहते हैं.

तो इसमें हमने जाना की Computer ki pribhasha kya hai.

कंप्यूटर के प्रकार। (Types of Computer in Hindi)

इस फोटो को देख कर आप समझ सकते हैं की Computer कितने प्रकार के होते हैं? इन सभी Computer का उपयोग आपको विस्तार से निचे बताया गया है।

types of computer in hindi image

इस फोटो में Computer को अलग अलग तरह से बता गया है जिसमे हम सबसे पहले टाइप की बात करेंगे type के हिसाब से तीन तरह के कंप्यूटर है।

कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार(Types of Computer in Hindi)

► कंप्यूटर को वर्गीकृत(Classified) करने का एक और तरीका उनके निर्माण के उद्देश्य के आधार पर है। कंप्यूटर की निम्न श्रेणियां उनके कामकाज के आधार पर उभरती हैं।

  1. Analog computer (एनालॉग कंप्यूटर).
  2. Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर).
  3. Hybrid Computer (हाइब्रिड कंप्यूटर).

एनालॉग कंप्यूटर क्या है? (What is Analog Computer in Hindi?)

एनालॉग कंप्यूटर(Analog Computer) क्या है? एनालॉग कंप्यूटर(Analog Computer) समस्या को हल करने के लिए एक एनालॉग सेट करते हैं। वे गिनती के बजाय माप कर काम करते हैं।

यदि उन्हें किसी समस्या को हल करने की आवश्यकता होती है, तो वे समस्या में संख्याओं के अनुरूप एक निरंतर भौतिक मात्रा को मापते हैं। यह मात्रा फिर संख्यात्मक मानों में बदल जाती है।

एक थर्मामीटर एक एनालॉग डिवाइस का एक अच्छा उदाहरण है। या शरीर के तापमान को मापने के लिए, यह किसी भी गणना नहीं करता है,

लेकिन यह पारा के सापेक्ष विस्तार की तुलना करके परिणाम देता है, उसी तरह, कार की गति को मापने के लिए उपयोग किया जाने वाला उपकरण एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग करता है।

एनालॉग कंप्यूटर ज्यादातर इंजीनियरिंग और वैज्ञानिक गणना में उपयोग किया जाता है, क्योंकि वे वास्तविक भौतिक प्रणालियों के लिए मॉडल के रूप में काम करते हैं।

डिजिटल कंप्यूटर क्या है? (What is Digital Computer in Hindi?)

Digital Computer kya hai? Digital Computer आज की दुनिया में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले Computer हैं।

बाकी दो के अलावा Digital Computer सेट करने वाली विशेषता यह है कि वे संख्याओं के Parallel प्रारूप का पालन करते हैं, मतलब वो Binary Digit 0 और 1 को ही समझते हैं.

एक Digital Computer में दर्ज किए गए सभी Word, प्रतीक और संख्या को उनके Binary समकक्ष में बदल दिया जाता है. ताकि Machine उन्हें समझ सके.

Digital Computer Numeric) और Non-numeric दोनों Data पर काम कर सकते हैं जो कि Binary Format में है।

Digital Computer को उनकी क्षमताओं, आकार और अनुप्रयोग के क्षेत्र के आधार पर आगे वर्गीकृत किया जा सकता है.

Hybrid Computer Kya Hai? (What is Hybrid Computer in Hindi)

Hybrid Computer Kya Hai? Hybrid Computer Digital और Analog Computer दोनों का एक Combination है. ये Computer Digital और Analog Computer) दोनों की विशेषताओं को मिलाते हैं.

उनके पास एक डिजिटल मेमोरी है जिसका उपयोग परिणामों को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है. Computational उद्देश्यों के लिए, वे Analog devices का उपयोग करते हैं.

Types of Computer By Size in Hindi

Size के आधार पर Computer 4 प्रकार के होते हैं.

  1. Micro Computer (माइक्रो कंप्यूटर).
  2. Mini Comuter (मिनी कंप्यूटर).
  3. Mainframe Computer (मेनफ़्रेम कंप्यूटर).
  4. Super Computer (सुपर कंप्यूटर).

Micro Computer Kya Hai? – (What is Microcomputer in Hindi?)

Micro-Computer)Kya Hai? Micro Computer को Personal Computer यानि PC के रूप में भी जाना जाता है. वे आम तौर पर Business और घर पर Use किए जाते हैं.

ये Computer लोगों को एक Network पर संवाद करने में सक्षम बनाते हैं. ये Computer Medium Data Storage की क्षमता रखते है.

Business की दुनिया के अलावा, इन कंप्यूटरों का उपयोग Educational और Entertainment) उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

Micro-Computer आमतौर पर निचे दिए गए कार्यो के लिए उपयोग किया जाता है –

  1. शब्द संसाधन (Word processing)
  2. लेखांकन (Accounting)
  3. सूची प्रबंधन (inventory management)
  4. परियोजना प्रबंधन (Project Management)
  5. ग्राफिक डिजाइनिंग (Graphic Designing)

Mini Computer Kya Hai? (What is Minicomputer in Hindi?)

Mini Computer Kya Hai? Micro Computer की तुलना में, Minicomputer आकार में अधिक महंगे और बड़े होते हैं. उनकी विशिष्ट विशेषताएं तेजी से Computing capacity को बढ़ाती हैं, Larger storage capacity और word size of 32 bits.

वे High speed printer जैसे तेज परिस्तिथिओं का समर्थन कर सकते हैं, Minicomputer Multi User कंप्यूटर हैं, दूसरे शब्दों में, कई उपयोगकर्ता एक साथ एक मशीन(Machine) पर काम कर सकते हैं।

ये कंप्यूटर(Computer) आमतौर पर मध्यम आकार के संगठनों में नियोजित होते हैं. वे बड़ी मात्रा में Data को आसानी से संसाधित कर सकते हैं.

VAX 7500, PDP 11, MAGNUM आदि Minicomputer के Example हैं. इन कंप्यूटरों में बड़ी मुख्य Memory होती है और आसानी से Complex operation कर सकते हैं।

Mainframe Computer Kya Hai? (What is Mainframe Computer in Hindi?)

Mainframe Computer में बहुत बड़ी Main Memory होती है. वे बड़े और शक्तिशाली Computer हैं. जो बड़ी मात्रा में Data को एक बड़ी गति से संसाधित कर सकते हैं। वे Multi-user Computer हैं.

सैकड़ों उपयोगकर्ता एक Mainframe Computer पर एक साथ काम कर सकते हैं. इन कंप्यूटरों में शब्द का आकार 32 से 64 Bit तक होता है.

इन कंप्यूटरों का उपयोग आम तौर पर बड़े संगठनों जैसे कि Bank, बड़े उद्योग इत्यादि में किया जाता है। IBM 4318, CDC 6600, CYBER 170, आदि कुछ सामान्य Mainframe Computer हैं.

Super Computer Kya Hai?  – What is Super Computer in Hindi

Super Computer कई संगणनाओं को एक साथ समाप्त कर सकते हैं। वे समानांतर सिस्टम में बड़ी संख्या में Processor का उपयोग करते हैं.

वे मुख्य रूप से Scientific Applications के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे Weather Forecast. Super Computer 64 Bits के शब्द आकार का Support करते हैं.

CRAY XMP-24, NEC-500, PARAM 10000 आदि भारत में विकसित कुछ लोकप्रिय Super Computer हैं.

General Purpose Computer Kya Hai? – What is General Purpose Computer

आज हम जो Computer इस्तेमाल करते हैं, वे लगभग सभी General Purpose Computer हैं. आप इस Article को एक General purpose computers पर पढ़ रहे हो.

और हमने इस Article को एक General purpose computers पर तैयार किया है. एक General purpose computers है. जिस में कई Activities को करने की क्षमता होती है.

आप इसके द्वारा शोध पत्र लिख सकते हैं, आप अपने घर, कार्यालय, व्यवसाय बिक्री चार्ट आदि का बजट तैयार कर सकते हैं. जो एक मशीन द्वारा किया जा सकता है। Desktop, Notebook आदि सभी General purpose computers हैं।

Special Purpose Computer Kya Hai? (Special Purpose Computer)

जैसा कि आपको नाम से पता चल रहा होगा की, इस प्रकार के Computer एक विशेष कार्य करने के लिए विकसित किए जाते हैं.

उनका काम केवल एक प्रकार का कार्य करना है। जैसे Transport Control, Weather Forecasting आदि. इस प्रकार के कंप्यूटर सामान्य प्रयोजन के कंप्यूटरों की तुलना में तेज़ होते हैं।

हालाँकि, ये कंप्यूटर एक General purpose computers की तरह विभिन्न प्रकार के कार्य नहीं कर सकते हैं.

Computer Structure in Hindi

वर्तमान युग Computer का युग है. वे दिन गए जब लोग बिजली के बिना भी जीवन का प्रबंधन करते थे.

आज, Computer हर पहलू में शामिल हैं। यहां तक ​​कि साधारण उपकरण, जैसे Camera, Toys, Remote Control, Calculator आदि में inbuild Computer होते हैं.

Office, Bank, School, Hospital, Railway, Library, TV, Station, Airports  सभी अपने नियमित संचालन के लिए Computer पर निर्भर हैं.

निर्णय लेने के लिए उपस्थिति और सूची रिकॉर्ड को बनाए रखने से लेकर रिपोर्ट बनाने तक, सभी कंप्यूटर द्वारा किए जाते हैं। दैनिक जीवन में कंप्यूटर की ऐसी भागीदारी ने उन्हें अपरिहार्य बना दिया है।

निश्चित रूप से, उन्होंने मनुष्य को उन पर इतना निर्भर बना दिया है कि अब उनके बिना जीवन का एक सहज प्रवाह शायद ही कल्पना की जा सकती है।

आप जानते हैं कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो इसमें दर्ज किए गए डेटा को संसाधित करने के बाद सार्थक जानकारी उत्पन्न करता है।

सरल शब्दों में, आप कह सकते हैं कि एक कंप्यूटर डेटा को सूचना में परिवर्तित करता है और उपयोगकर्ता के सामने प्रस्तुत करता है।

Input & Output Device Kya Hai?

एक Computer के लिए जरूरी है –

• Data input करने के लिए विभिन्न Input Device.

• Results दिखाने के लिए विभिन्न Output Device.

Input Device एक Computer में Data और निर्देशों को Feed करने के बाद, Central Processing Unit यानि (CPU) निर्देशों के अनुसार Data को Process करता है और Output Device को परिणाम पास करता है.

Computer का CPU विभिन्न Input और Output Device के माध्यम से उपयोगकर्ता के साथ बातचीत करता है. उनके बिना, CPU को पता नहीं होगा कि क्या करना है और कब करना है.

Input और Output Device को Peripheral devices के रूप में जाना जाता है. Data and instructions को Input Device का उपयोग करके कंप्यूटर में Feed किया जाता है.

बाजार में विभिन्न प्रकार के Input Device उपलब्ध हैं. Keyboard, Mouse आदि. कुछ सामान्य Input Device हैं.

Keyboard Kya Hai? – What is Keyboard in Hindi

Keyboard सबसे लोकप्रिय Input Device है. यह एक Typewriter की तरह दिखता है और इसका उपयोग सीधे Computer में Data and Instructions को दर्ज करने के लिए किया जाता है.

Keyboard पर Keys को दबाकर, आप अपने कंप्यूटर Computer में जो चाहें दर्ज कर सकते हैं. Keyboard) पर अलग-अलग Keys अलग-अलग कार्य करती हैं.

एक Keyboard में निम्नलिखित Keys होती हैं-

1. Number Keys (0-9)
2. Alphabet Keys (A / A-Z / Z)
3. Function Keys (F1-F12)
4. Special Keys (Page UP, Page Down, Tab, Enter, Shift, Capslock, आदि)

Function Keys और Special Keys का इस्तेमाल Commands दर्ज करने के लिए किया जाता है, जबकि Computer में Data दर्ज करने के लिए Number Keys और Alphabet Keys का इस्तेमाल किया जाता है.

Mouse Kya Hai? – What is Mouse in Hindi

Computer में विभिन्न कार्यक्रमों को Indicated और executed करने के लिए एक Mouse का उपयोग किया जाता है.

इसमें सबसे नीचे एक छोटी सी गेंद और सबसे ऊपर दो या तीन बटन होते हैं. आजकल, कुछ Mouse में, Middle Button को एक बॉल के साथ बदल दिया जाता है जो Scroll Bar की तरह काम करता है.

जब एक Mouse Mouse Pad के ऊपर ले जाया जाता है, तो Screen पर सूचक भी चलता रहता है. Mouse का उपयोग उन कंप्यूटरों के साथ किया जाता है, जिन में GUI (Graphical User Interface) जैसे Windows 95, Windows 98 आदि हैं.

GUI वातावरण में, Command Menu संचालित होते हैं. दूसरे शब्दों में, ऐसे Menu होते हैं जिन में Commands होते हैं. जिन्हें Mouse की मदद से Execute किया जा सकता है.

इसके अलावा, एक GUI वातावरण में, कार्यक्रमों का प्रतिनिधित्व करने वाले Icon हैं. Icon का चयन करना और Click करना संबंधित कार्यक्रमों को निष्पादित कर सकता है.

Mouse का उपयोग आमतौर पर चित्रों को खींचने, क्लिक करके Command देने और Screen पर पाठ और चित्रों को Move करने के लिए किया जाता है.

Computer Ka Itihaas – History of Computer in Hindi

आज आप वक़्त में हम Computer पर Internet का इस्तिमाल करते हैं, मन चाही Game खेलते है, मनपसंद वीडियो देखते हैं, नए नए Song सुनते हैं और इसके अलावा काफी सारे Office से संबंधित काम काज करते हैं.

आज के इस दौर में Computer का उपयोग दुनिया के हर क्षेत्र में किया जा रहा है. चाहे Education जगत हो, Filmy जगत हो या आपका Office हो। कोई भी जगह Computer के बिना अधूरी है.

Computer की सहायता से Internet पर दुनिया के किसी भी शहर की कोई भी जानकारी सेकेंण्डों मे प्राप्त कर सकते हैं. किसी दूसरे देश में बैठे अपने मित्रों और रिश्तेदारों से Internet के गाध्यम से Live Video Conferencing कर सकते हैं.

यह सब मुमकिन हुआ है Computer के जरिये से। सोचिए अगर Computer का अविष्कार न हुवा होता तो आज की दुनिया कैसी नज़र आती।

Computer की  शुरुआत कहाँ से हुई और क्यूँ हुई ? क्या वाकई में Computer इन सभी कामों को करने के लिये बना था या इसका आविष्कार किसी और वजह से हुआ था.

आइए जानते हैं. मानव के लिए गणना करना शुरू से ही कठिन रहा है मनुष्य बिना किसी मशीन के एक सीमित स्तर तक ही गणना या Calculation कर सकता है

ज्यादा बड़ी Calculation करने के लिए मनुष्य को Machine पर ही निर्भर रहना पड़ता है इसी जरुरत को पूरा करने के लिए कंप्यटर का निर्माण किया. यानी गणना जरुरत को पूरा करने के लिए गनुष्य ने Computer का निर्माण किया.

Abacus Kya Hai?

Abacus को लगभग 3000 साल पहले विकसित किया गया था, और यह पहला Computational tool था. यह Egypt में विकसित किया गया था, फिर भी इस system को पूरा करने का श्रेय चीनी को जाता है.

जिन्होंने 12 वीं शताब्दी ईस्वी में इस में महत्वपूर्ण परिवर्तन लाए. कई देश आज भी इसका इस्तेमाल करते हैं. Abacus एक Rectangular frame से बना है जिस में कई vertical sticks हैं. खड़ी छड़ें जंगम मोतियों से लदी होती हैं.

एक Horizontal Bar को Vertical rods के पार रखा जाता है, और Abacus को दो भागों में विभाजित किया जाता है, अर्थात् स्वर्ग और पृथ्वी। मोतियों को अलग-अलग जगहों पर लगाकर, अलग-अलग नंबर पेश किए जा सकते हैं।

गणना करने के लिए, मोतियों को क्रॉस बार से या उसके पास ले जाया जाता है।

Pascal Arithmetic Machine

यह 1642 में निर्मित पहला Mechanical Digital Calculator था. Blaise Pascal), एक Mathematician, पूर्ण संख्याओं पर जोड़ और घटाव जैसे सरल गणना करने के लिए Pascal Arithmetic Machine का निर्माण किया.

मशीन में पहिए और डायल हैं। पहियों को 1 से 9 तक संख्याओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए चिह्नित किया गया है. प्रत्येक पहिया एक विशेष दशमलव स्तंभ के लिए खड़ा है। मशीन तीन महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर काम करती है.

  1. एक carry को स्वचालित रूप से पूरा किया जाना चाहिए.
  2. संख्या घटाने के लिए, डायल को उल्टी दिशा में मोड़ना है.
  3. संख्याओं को बार-बार जोड़ना और घटाना, संख्याओं के गुणन और विभाजन के लिए उपयोग किया जाता है.

बाद में, इन तीन सिद्धांतों ने बेहतर Calculator के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

Differential and Analytical Engines Kya Hai

1822 में गणित के प्रोफेसर Charles Babbage द्वारा Diffrence Engine विकसित किया गया था. यह Machine 20 decimal places तक की संख्याओं की गणना सही ढंग से कर सकती थी.

इसने सूचनाओं को संग्रहीत करने के लिए Punched Card का उपयोग किया और गणना के लिए Mechanical tools का सहारा लिया.

Charles Babbage को अपनी Machine की सफलता से बहुत प्रोत्साहन मिला. हालांकि, वह परिणामों से पूरी तरह से संतुष्ट नहीं थे, और इसलिए उन्होंने दूसरी मशीन पर काम करना शुरू कर दिया.

उन्हों ने 1833 में दुनिया के लिए Analytical engine present किया. Difference Engine पर इसकी श्रेष्ठता यह थी कि यह बड़ी संख्या में स्टोर कर सकता था.

इसके अलावा, यह निर्णय लेने के लिए परिणामों का उपयोग करता है. हालांकि Analyticla Engine, Difference Engine का एक Improved version था, फिर भी यह पूर्ण नहीं था.

Charles Babbage Input/Output Device, Control Unit, Memory Storage Devices और Arithmatic Logic Machine जैसे Components को जोड़ना चाहते थे.

वह सफलता प्राप्त नहीं कर सका, क्योंकि उस समय उपलब्ध तकनीकों में Engine द्वारा आवश्यक सटीकता का अभाव था. बहरहाल, उनकी Machine के लिए अवधारणा को तैयार किया जाना Computer के विकास में एक क्रांति लाया.

एक तरह से, उन्होंने Digital Computers की नींव रखी. उनके Engine को Fast Computer के रूप में जाना जाता है, और उन्हें आज भी Computer के पिता के रूप में याद किया जाता है.

MARK – I 

1930 में, Howard Aikens ने पहला स्वचालित अनुक्रम नियंत्रित Calculator दिया, जिसे Mark -I कहा जाता है। इस समय तक, गणना के लिए उपयोग की जाने वाली मशीनें अनिवार्य रूप से Mechanical मशीनें थीं.

Mark – 1 एक सामान्य उद्देश्य है. जो Electrically powered computer है. यह हजारों Electro magnetic relay और कई Components से बना है. बीस अंको की दो संख्याओं को गुणा करने में लगभग 5 सेकंड लगते हैं.

ENIAC

1947 में, Mauchly और Eckert ने पहला valve-based Computer Develop किया, जिसे Electronic Numerical Integrator and Computer) यानि (ENIAC) कहा जाता है.

Machine में Central Processing Unit, Memory Unit और Input/Output Unit जैसे Computer की सभी Modern Concepts हैं.

हालाँकि, यह आधुनिक Computer से भिन्न है क्योंकि यह Binary System के बजाय Decimal System का उपयोग करता है. यह बहुत अधिक बिजली की खपत करता है और आकार में बहुत बड़ा है.

EDVAC

EDVAC या Electronic Discrete Variable Automatic Computer Stored program की अवधारणा पर आधारित है.

इसे 1949 में Mauchly, Eckert और John von Neumann द्वारा Develop किया गया था. इस Machine में, Machine को Operate करने के लिए उपयोग किए जाने वाले Instructions और Data को Machine में ही Store किया जाता है.

यह Computer को तेज Speed से काम करने में Capable बनाता है, क्योंकि यह Data और Instructions दोनों को जल्दी से Access कर सकता है.

ACE

ACE या Automatic Computing Engine पहला Digital Computer है जिसे Program किया जा सकता है. इसे 1950 में Develop किया गया था.

UNIVAC – I

1951 में, Mauchly और Eckert ने Universal Automatic Computer या UNIVAC I Develop किया. यह Commercial success देखने वाला पहला Computer था.

IBM System/360

1960 के दौरान, Gene Amdahl ने integrated circuits का उपयोग करके इस System को Develop किया.

यह ऐसी Technology का उपयोग करने वाला पहला General Purpose Digital Computer है.

Program Data Processor or PDP – 1

Program Data Processor or PDP-1 पहला Mini Computer था. Olsen ने 1963 में इसे Develop किया.

MICRO COMPUTER

H. Edward Roberts, एक Electrical Engineer, ने 1975 में पहला Micro Computer Develop किया.

उन्हें सही मायनों में Father of Micro Computer कहा जाता है.

Apple Micro Computer

1997 में, एक Technical Expert Stephen Wozniak ने पहला Apple Micro Computer Develop किया.

Personal Computer

1980 के दशक के दौरान, नए Program Products ने Personal Computer या PC पेश किए. ये Computer कम लागत वाले Computer System हैं.

Computer Ki Pidiya – Generation of Computer in Hindi

Computer Ki Pidiya (Generation of Computer) आधुनिक Computer के विकास को ट्रैक करती है. Technology प्रगति और सफलताओं ने Computer को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक Regenerate किया.

Computer की प्रत्येक नई पीढ़ी के साथ Speed, Reliability और Storage क्षमता के मामले में Computer की गुणवत्ता में सुधार हुआ.

इसके अलावा, System की लागत काफी कम हो गई. Computer की हर पीढ़ी ने विभिन्न प्रकार के Switching Certificate का उपयोग किया.

11 वें विश्व युद्ध के बाद कंप्यूटरों की Growth बहुत तेजी से हुई. यह विकास पाँच अलग-अलग चरणों में हुआ जिसे कंप्यूटर जनरेशन(Computer generation) कहा जाता है. इन पाँच कंप्यूटर पीढ़ियों की अवधि है:

  1. First Generation 1940-1955
  2. Second Generation 1956-1965
  3. Third Generation 1966-1975
  4. Fourth Generation 1976-1990
  5. Fifth Generation 1991 के बाद

First Generation Computer in Hindi (1940-1955)

Thermionic Valves, जिसे Vacuum tubes भी कहा जाता है, का उपयोग पहली पीढ़ी के Computer के Electrical circuit में किया गया था.

UNIVAC I और ENIAC इस पीढ़ी के पहले Business computer थे. इस पीढ़ी के कंप्यूटरों ने Data Feed के लिए Punched Card का इस्तेमाल किया.

External Storage के लिए Magnetic Tap का उपयोग किया गया था. Computer ने Machine Language और Assembly Language पर काम किया.

हालांकि, इस पीढ़ी के कंप्यूटरों को Slow Speed, Limited Computing Capability, Large Size, Limited Programming Capabilities और अत्यधिक बिजली की खपत जैसी सीमाओं द्वारा चिह्नित किया जाता है.

LEO, IBM-701 और IBM-650 पहली पीढ़ी के First Generation Computer के Examples हैं.

Second Generation Computer in Hindi (1956-1965)

Second Generation of Computers ने Vaccum Tube को Transistors के साथ बदल दिया. परिणाम स्वरूप, पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों की तुलना में कंप्यूटर तेज़ और अधिक विश्वसनीय हो गए.

इसके अलावा, वे अधिक बहुमुखी थे और कई ऑपरेशन कर सकते थे। कम आकार और कम विनिर्माण और चलने की लागत दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर की मुख्य विशेषताएं हैं।

डेटा(Data) दर्ज करने के लिए, इन कंप्यूटरों ने छिद्रित कार्ड(Punched Card) और चुंबकीय टेप(Magnetic Tap) का उपयोग किया। इस अवधि के दौरान उच्च स्तरीय भाषाओं जैसे कि फोरट्रान(FORTRAN), कोबोल(COBOL), बेसिक(BASIC) आदि का उपयोग कंप्यूटर(Computer) द्वारा किया जाता था।

IBM 1620, IBM 1401, CDC 3600, UNIVAC 1108, ICL 1901, आदि दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर(Second Generation of Computers) के उदाहरण(Examples) हैं।

Third Generation Computer in Hindi

Third generation of computer Machine Hardware में महत्वपूर्ण प्रगति द्वारा चिह्नित है. इसके अलावा, Computer Software में भी सुधार हुए.

इस पीढ़ी में, integrated circuits ने Transistors को बदल दिया. इस पीढ़ी के दौरान Moniters और Keyboard का भी उपयोग किया गया था.

Magnetic Taps के स्थान पर, External Store के लिए Magnetic Disks का उपयोग किया गया था. Punched Card शायद ही कभी इस्तेमाल किए गए थे.

इस पीढ़ी के कंप्यूटरों की एक अन्य विशेषता थी Specific Jobs को संभालने के लिए परिष्कृत Operating System का विकास उच्च स्तरीय भाषाओं, जैसे PASCAL का उपयोग किया गया.

ICL-2900, Honeywell – 6000 series, IBM-360/37O series और PDP-8 series दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों के उदाहरण हैं.

इस अवधि के दौरान ICL-2903, CDC-1700e इत्यादि जैसे Mini Computers भी विकसित किए गए थे.

Fourth Generation in Hindi (1976-1990)

इस अवधि के दौरान, तीसरी पीढ़ी की तुलना में कंप्यूटर अधिक तेज और छोटे आकार के थे. इस अवधि के दौरान कंप्यूटरों ने Very Large Scale Integration यानि (VLSI) Technology का इस्तेमाल किया.

इस तकनीक ने हजारों Transistors को एक Chip पर रखा. इस तकनीक के कारण, Micro-Processors का निर्माण हुआ. उनमें Arithmetic, Logical और नियंत्रण कार्यों को नियंत्रित करने के लिए सभी आवश्यक Circuit शामिल थे.

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर में पिछली पीढ़ी के कंप्यूटरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली Operating System होता है. Input और Output Device में भी सुधार किया है और Serial Processing तकनीक का पालन किया है.

IBM System/370, HP 3000, आदि इस पीढ़ी के कंप्यूटर के उदाहरण हैं। इस अवधि के दौरान, Micro Computer भी विकसित किए गए थे.

Fifth Generation in Hindi (1991)

Computer की वर्तमान पीढ़ी को Fifth generation of computer कहा जा सकता है. Computer Scientist अब Artificial Intelligence पर काम कर रहे हैं.

Computers of Fifth Generation में Super Computer शामिल हैं. जो प्रति सेकंड अरबों की गणना कर सकते हैं।

वे Serial Processing के बजाय Parallel Processing Techniques का पालन करते हैं पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटरों के Chip पर लाखों Transistor लगे होते हैं.

Characteristics Of Computer in Hindi

स्पीड (speed) :- Computer Data की एक बड़ी मात्रा को Process करने के लिए केवल कुछ ही Second लगते हैं.

शुद्धता (Accuracy) :- यदि कंप्यूटर में सही डाटा(Data) दर्ज़ किया गया है तो प्राप्त Result एकदम सटीक होगा क्यों की Computer GIGO (Garbage in Garbage Out) के सिद्धांत पर Work करता है. 

• High Storage Capacity :- Computer Memory बहोत विशाल होती है. Computer कोई भी जानकारी या Data बहुत लम्बे समय तक Store कर के रख सकता है.

Diligence (लगन) :- Computer कभी थकता नहीं है.

• Multitasking (मल्टीटास्किंग) :- Computer एक साथ बहोत से कार्य कर सकता है.

Computer Ka Upyog – Uses Of Computer in hindi

वर्तमान युग कंप्यूटर का युग है। विज्ञान ने मनुष्य को अनेक उपहार दिए है जिसने मनुष्य की दिशा ही बदल कर रख दी है।

कंप्यूटर आधुनिक विज्ञान का अद्भुत करिश्मा है। लम्बी लम्बी गिनतियाँ, हिसाब किताब और सोच विचार जिन्हें करने में इंसान अपनी पूरी ऊर्जा लगा देता था, आज कंप्यूटर द्वारा कुछ मिनट में हो जाते हैं।

आज Computer का उपयोग दुनिया के हर क्षेत्र में हो रहा है जैसे School, College, Bank, Hospitel, Business, Railway Station, Airport आदि.

what is computer in hindi

Medical के क्षेत्र ने Computer की मदद से काफी Progress की है. जटिल से जटिल बिमारियों का सटीक पता Computer के द्वारा लगाया जा सकता है.

बड़े बड़े शहरों में सड़कों के यातायात के नियम भी Computer द्वारा नियंत्रित किये जाते हैं. अपराधियों के रिकॉर्ड रखने के लिए भी Police Computer का उपयोग करती है.

आज Computer ने हमारे जीवन और काम बहोत आसान बना दिया है. आज कंप्यूटर की सहायता से ही Lightning, Telephone के बिल भरने के साथ Ticket Booking भी किया जा सकता है.

कंप्यूटर ने Business करना सरल बना दिया है. छोटे से लेकर हर बड़ा Businessman अपना लेनदेन का हिसाब Computer में रखता है.

आज की पूरी Banking System Computer पर निर्भर है. Computer के कारण रोज़गार के नए अवसर निकल कर सामने आ रहे है.

Computer Internet के माध्यम से छात्र घर बैठे शिक्षा प्राप्त है. Research के क्षेत्र में भी Computer का भरपूर इस्तिमाल किया जाता है.

Computer की मदद से हम Movies देख सकते हैं, Song सुन सकते हैं, Videos की आनंद ले सकते हैं और अपनी पसंद का काम कर सकते हैं.

कंप्यूटर में Data Storage की सुविधा की वजह से Government, Non-Government, School, College, आदि सभी जगहों पर कागज़ों की बचत होती है.

Computer द्वारा हम घर से ही Online Shopping कर सकते है, जिस से हमारे समय तथा ऊर्जा दोनों की बचत होती है.

Advantages or Disadvantages of Computer in Hindi

समाज में प्रत्येक व्यक्ति अपनी-अपनी आवयशकाओं के अनुसार कंप्यूटर का लाभ उठा रहा है।

आज विद्यार्थी वर्ग में Mobile और Computer अधिक प्रशिद्ध हैं। School, Colloage, University हर स्तर के Student की पहली पसंद Computer है.

आज Computer का उपयोग हर क्षेत्र में किया जाता है Students इसका प्रयोग Internet, Email, Chatting, Designing आदि के लिए भी करते हैं।

इस से घर बैठे बैठे Internet के माध्यम से संसार के किसी भी कोने की जानकारी ले सकता है. विद्यार्थी अपनी मनचाही सामग्री को Download कर सकते हैं, इस से Print भी निकाल सकते हैं.

तो कुछ ये Computer Advantages है लेकिन आज Computer हमारे लिए जितना उपयोगी है, वहीँ पर उसकी कुछ Disadvantages भी है.

कुछ विद्यार्थी ऐसे भी होते हैं जो कंप्यूटर का Misuse भी करते हैं। वे व्यर्थ ही अपना कीमती वक़्त बे वजह संदेस Chatting कर के गवा देते हैं.

कंप्यूटर के अधिक उपयोग से हमारी आँखों पर बुरा असर पड़ता है। जिसकी वजह से हमें आगे चलकर काफी तकलीफ उठानी पड़ती है।

जहाँ तक हो सके हमें Computer Disadvantages को जानना चाहिए और इनसे बचकर Computer का सदुपयोग करना चाहिए।

Computer Kya Hai? – आपने क्या सीखा?

वैसे आपने इसे आर्टिकल में ये सीखा की computer क्या है?(what is computer in hindi). मुझे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की परिभाषा(Defination of Computer in Hindi) जरूर पसंद आयी होगी।

जहाँ तक उम्मीद है की यदि आप इस आर्टिकल को अच्छी तरह से पढ़ लेते हैं तो दुबारा आपको what is computer in hindi सर्च नहीं करना पड़ेगा।

अगर आपको वाकई हमारी पोस्ट पसंद आयी है तो आप इस कंप्यूटर की बेसिक जानकारी(computer basics in Hindi) को अपने फ्रेंड्स और अपने फॅमिली मेंबर्स के साथ जरूर शेयर करें। ताकि वो भी कंप्यूटर की बेसिक जानकारी प्राप्त कर सके।

यदि आपको हमारे इस आर्टिकल कोई चीज़ समझ में न आयी हो या आपको कोई कमी या कोई गलती नज़र आयी हो तो आप हमें बेझिझक Comment करके बता सकते हैं। आपके Comment करने से हमें बहोत कुछ सिखने और समझने मिलता है।

इन्हें भी पड़ें। 

सुक्रिया। 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here